इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप एप्लीकेशन को आज के समय में हर कोई इस्तेमाल करते हैं। लेकिन आज हम इसके बारे में इसलिए बात कर रहे हैं क्योंकि व्हाट्सएप के इंडिया हेड अभिजीत बोस ने मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और इतना ही नहीं अभिजीत के साथ मेटा इंडिया के सार्वजनिक नीति निदेशक राजीव अग्रवाल ने भी अपने पद से इस्तीफा दिया है। अचानक दोनों इस्तीफों के बाद कंपनी ने भारत में व्हाट्सएप पब्लिक पॉलिसी के निदेशक शिवनाथ ठुकराल को भारत में मेटा के सभी प्लेटफॉर्म के लिए पब्लिक पॉलिसी निदेशक बनाया गया है।

व्हाट्सएप हेड विल कैथकार्ट ने दी जानकारी-
आपको बता दे कि व्हाट्सएप हेड विल कैथकार्ट ने इस्तीफे पर जानकारी देते हुए कहा, “मैं भारत में व्हाट्सएप के हमारे पहले प्रमुख के रूप में अभिजीत बोस के जबरदस्त योगदान के लिए उन्हें धन्यवाद देना चाहता हूं। उनके उद्यमशीलता अभियान ने हमारी टीम को नई सर्विस प्रदान करने में मदद की, जिससे लाखों लोगों और व्यवसायों को लाभ हुआ है। व्हाट्सएप देश के लिए और भी बहुत कुछ कर सकता है और हम भारत के डिजिटल परिवर्तन को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए उत्साहित हैं।” उन्होंने बोस के पद पर जल्दी ही नियुक्ति की जाने की भी बात कही।

वहीं राजीव अग्रवाल के इस्तीफे के बाद कंपनी ने एक बयान में कहा कि राजीव अग्रवाल ने नए अवसर के लिए पद छोड़ने का फैसला किया है। पिछले एक साल में, उन्होंने देश में डिजिटल समावेशन को बढ़ावा देने के लिए यूजर्स-सुरक्षा, गोपनीयता और GOAL जैसे कार्यक्रमों को बढ़ाने के क्षेत्र में हमारी नीति-आधारित पहल का नेतृत्व करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। वह महत्वपूर्ण नीति और नियामक हितधारकों के साथ सक्रिय जुड़ाव का नेतृत्व कर रहे हैं।

राजीव अग्रवाल की जगह लेंगे ठुकराल-
एक खबर के मुताबिक पूर्व टेलीविजन पत्रकार शिवनाथ ठुकराल को राजीव अग्रवाल की जगह मेटा के सभी प्लेटफॉर्म के लिए पब्लिक पॉलिसी निदेशक बनाया गया है। वह पहले व्हाट्सएप पब्लिक पॉलिसी के निदेशक के पद पर थे। ठुकराल 2017 से पब्लिक पॉलिसी टीम का हिस्सा रहे हैं।

मेटा ने दुनियाभर में लगभग 11,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला-
इससे पहले इसी महीने की शुरुआत में ही भारत में मेटा प्रमुख अजीत मोहन ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। वह मेटा के प्रतिद्वंद्वी स्नैपचैट में शामिल हुए हैं। बता दें कि मेटा ने अपनी कंपनी में छंटनी की घोषणा के एक हफ्ते के अंदर ही दुनियाभर में लगभग 11,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। यह कंपनी की अब तक की सबसे बड़ी छंटनी थी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *