Ukraine-Russia War: रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध का आज 12वां दिन है। अब तक दोनों देशों के बीच दो दौर की बातचीत हुई लेकिन नतीजा शून्य रहा। आज दोनों देशों के बीच शांति के प्रयासों को लेकर तीसरे दौर की बैठक होगी। इस बीच भारत सरकार के सूत्रों के हवाले से यह खबर सामने आ रही है कि यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की(Volodymyr Zelenskyy ) के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Pm Narendra Modi) खुद बात करेंगे।

पीएम मोदी से बात करेंगे राष्ट्रपति जेलेंस्की
बता दें कि यूक्रेन का राष्ट्रपति इससे पहले भी पीएम मोदी से मदद की अपील कर चुके हैं। यह पहला मौका है जब जंग शुरू होने के बाद यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की से पीएम मोदी बात करेंगे। ऐसा माना जा रहा है कि जेलेंस्की से बीतचीत के दौरान यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की वापसी के साथ युद्ध कैसे रोका जाए इस बारे में भी दोनों शीर्ष नेताओं के बीच चर्चा हो सकती है।

रूस और यूक्रेन के बीच आज होगी तीसरे दौर की बातचीत
रूस-यूक्रेन के बीच इस बढ़ते तनाव को देखते हुए अब इजरायल, फ्रांस और तुर्की समझौता कराने की कोशिश में जुटे हुए हैं। बता दें, रूस और यूक्रेन आज तीसरे दौर की बातचीत के लिए आमने-सामने बैठेंगे।

इजराइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट भी कर रहे बात
इजराइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने कहा है कि उनका देश यूक्रेन संकट का कूटनीतिक समाधान तलाशने में सहायता जारी रखेगा, भले ही उसकी इस कोशिश के सफल होने की संभावना बहुत कम हो। बेनेट ने अपने मंत्रिमंडल की बैठक में रविवार को यह टिप्पणी की थी। उन्होंने मास्को में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ एक औचक बैठक से लौटने के कुछ घंटे बाद मंत्रिमंडल की बैठक की।

फ्रांस के राष्ट्रपति ने पुतिन से की बात
वहीं, फ्रांस के राष्ट्रपति से पुतिन ने एक बार फिर बात की। फ्रांस ने कहा कि उनकी बातचीत में कुछ भी उत्साहजनक नहीं था। वहीं, तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने यूक्रेन में तत्काल सामान्य युद्धविराम की अपील की। उन्होंने रविवार को रूसी नेता व्लादिमीर पुतिन से टेलीफोन पर बात की।

कई शहर हमले में पूरी तरह तबाह
रूस लगातार अपना हमला यूक्रेन पर तेज करता जा रहा है। अब तक यूक्रेन के कई शहर हमले में पूरी तरह तबाह हो चुके हैं साथ ही सैकड़ों लोग अपनी जान गवां चुके हैं। रूस-यूक्रेन के इस युद्ध में अब तक 15 लाख लोग विस्थापित हो सुके हैं। वहीं, यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की भी रूस के सामने हार मानने को तैयार नहीं है।

आपको बता दें कि रूस की एक बड़ी शर्त ये है कि यूक्रेन (उत्तर अटलांटिक संधि संगठन) नाटो में शामिल न हो। रूस कई सालों से इस बात को कहता रहा है कि यूक्रेन को जो करना है वो करे, लेकिन वो नाटो में शामिल न हो। रूस का दावा है कि यूक्रेन के नेटो का सदस्य बनने से हमारी सुरक्षा पर खतरा पैदा होता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *