नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट(BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) हमेशा ही सुर्खियों में छाए रहते हैं। सौरव गांगुली के लिए बीसीसीआई अध्यक्ष के तौर पर चुनौतीपूर्ण 26 महीनों के अंदर कई तरह की आलोचनाओं का सामना किया। सौरव गांगुली पर चयनकर्ताओं को प्रभावित करने से लेकर अपने कार्यकाल में महिला क्रिकेट के लिये ज्यादा कुछ नहीं करने के आरोप तक लगे। अब सौरव गांगुली ने उन सभी आरोपों का जबाव दिया है।

बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने खुद पर लगे आरोपों का जबाव देते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि मुझे (इस पर) किसी को कुछ भी जवाब देने और इनमें से किसी भी निराधार आरोप का सम्मान करने की ज़रूरत है। मैं बीसीसीआई का अध्यक्ष हूं और बीसीसीआई के अध्यक्ष को जो करना चाहिए मैं वही करता हूं।

Zeenews के मुताबिक,  उन्होंने आगे कहा कि मुझे एक तस्वीर (सोशल मीडिया के) चक्कर लगाती हुई दिखाई दे रही है जिसमें मुझे चयन समिति की बैठक में बैठे हुए दिखाया गया है। मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि वह तस्वीर (जहां गांगुली को सचिव जय शाह, कप्तान विराट कोहली और संयुक्त सचिव जयेश जॉर्ज के साथ बैठे देखा जा सकता है) चयन समिति की बैठक की नहीं थी। जयेश जॉर्ज चयन समिति की बैठकों का हिस्सा नहीं हैं। मैंने भारत के लिए 424 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं।

इसके अलावा गांगुली ने कहा कि हम एक पूर्ण महिला आईपीएल गठित करने के स्तर पर हैं। यह निश्चित रूप से होगी। मेरा मानना है कि अगले साल मतलब 2023 पूर्णकालिक महिला आईपीएल शुरू करने का बहुत अच्छा समय होगा, जो पुरूष आईपीएल की तरह ही बड़ी और सफल होगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *