RBI MPC June 2022: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने रेपो रेट में 0.50% की बढ़ोतरी कर दी है, जिसके बाद अब रेपो रेट (Repo Rate Hike) बढ़कर 4.90% हो गया है। यह करीब एक महीने के अंतराल में रेपो रेट में लगातार दूसरी बढ़ोतरी है। बता दें कि महंगाई पर काबू पाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांता दास (RBI Governor Shaktikanta Das) ने इसकी घोषणा की है।

बता दें, लगातार दूसरे महीने RBI ने रेपो रेट में इजाफा किया है। इससे पहले मई में भी 40 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की गई थी। कई सालों के उच्च स्तर पर पहुंची महंगाई (Inflation) से रिजर्व बैंक (Reserve Bank) और सरकार को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति की जून बैठक (RBI MPC June Meet) के बाद आज रेपो रेट बढ़ाए जाने की जानकारी दी। रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की तीन दिनों की यह बैठक सोमवार से चल रही थी और आज खत्म हुई। यह इस फाइनेंशियल ईयर में आरबीआई एमपीसी की तीसरी बैठक थी। बैठक में समिति के पांचों सदस्यों ने गवर्नर दास की अगुवाई में महंगाई और इकोनॉमिक ग्रोथ (Economic Growth) की वास्तुस्थिति पर विचार-विमर्श किया। बेकाबू महंगाई को देखते हुए समिति के सदस्य इस बात पर सहमत हुए कि फिलहाल रेपो रेट बढ़ाने के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नहीं है।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2022 में खुदरा महंगाई (Retail Inflation) की दर 7.8 फीसदी रही थी, जो मई 2014 के बाद सबसे ज्यादा है। इसी तरह अप्रैल 2022 में थोक महंगाई (Wholesale Inflation) की दर बढ़कर 15.08 फीसदी पर पहुंच गई थी, जो दिसंबर 1998 के बाद सबसे ज्यादा है। अप्रैल महीने में रिकॉर्ड महंगाई के लिए फूड एंड फ्यूल इंफ्लेशन जिम्मेदार रहे थे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *