Rajasthan: आज देश में एक और नया मामला सामने आया है। अब की बार ये मामला राजस्थान के अलवर जिले से आ रहा है। ये मामला है 300 साल पुराने मंदिरों को तोड़े जाने का। एक रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के जिला अलवर के राजगढ़ में तीन मंदिरों को तोड़े जाने का मामला सामने आया है। जिसके बाद भाजपा कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो गई है। ऐसे में भाजपा ( BJP ) के आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय ( Amit Malviya ) ने इस मामले में कांग्रेस को घेरा है। उन्होंने कहा कि करौली और जहांगीरपुरी पर आंसू बहाना और हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना, यही कांग्रेस का सेक्युलरिजम है।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार अलवर के राजगढ़ में तीन मंदिर पर बुलडोजर चलाया गया है। मंदिर तोड़े जाने की वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। जिससे करीब 300 साल पुराने शिव मंदिर की मूर्तियां खंडित हुई हैं। कहा जा रहा है कि 17 अप्रैल को राजगढ़ के शिव मंदिर को तोड़ा गया है। मास्टर प्लान के तहत कस्बे के गोल सर्किल से मेला का चौराहा के मध्य मार्ग में बाधा बने दुकानों और मकानों को ध्वस्त करने को लेकर बुलडोजर चलाया गया है। इसी क्रम में मंदिर को अतिक्रमण बताकर प्रशासन की टीम बुलडोजर के साथ पहुंची और उन्होंने मंदिर के गुंबज को तोड़ दिया। इस दौरान हनुमान जी सहित अन्य देवी-देवताओं की मूर्ति तोड़ी गई है। इसके बाद शिवलिंग को कटर की मदद से काटा गया।

ये भी पढ़ें: New York Subway attack: न्यूयॉर्क के सबवे स्टेशन में अंधाधुंध फायरिंग, 5 लोगों की मौत

लोगों ने लगाया आरोप- भाजपा को वोट दिया था इसलिए अब ले रहें हैं बदला
स्थानीय नागरिकों का कहना है कि मंदिर तोड़े जाने की शिकायत लेकर हम कांग्रेस विधायक जौहरी लाल मीणा के पास गए थे। उन्होंने कहा कि बोर्ड भाजपा का बनाते हो और शिकायत हमसे करते हो। स्थानीय नागरिकों ने आरोप लगाया कि भाजपा को वोट देने के कारण उनसे बदला लिया गया है। मंदिर और मकान इसी कारण तोड़े गए हैं।

कांग्रेस विधायक सहित तीन के खिलाफ शिकायत दर्ज
ब्रज भूमि कल्याण परिषद ने कांग्रेस विधायक और तीन अधिकारियों पर तीन मंदिर तोड़े जाने का आरोप लगाया है। जिसके बाद उन्होंने राजगढ़ के कांग्रेस विधायक जौहरीलाल मीणा, एसडीएम और नगरपालिका के सीआईओ के खिलाफ राजगढ़ थाने में शिकायत दर्ज कराई गई।

जौहरी मीणा ने लगाया भाजपा बोर्ड पर आरोप
शिकायत दर्ज होने के बाद राजगढ़ विधायक जौहरी लाल मीणा ने सफाई दी है। विधायक ने कहा कि मैं और मेरा परिवार भगवान में आस्था रखते हैं। हमने ये नहीं किया है। विधायक ने कहा कि 35 पार्षदों के बोर्ड में 34 विधायक भाजपा के हैं। एक कांग्रेस का है। राजगढ़ में भाजपा का बोर्ड है। ऐसे में सड़क चौड़ी करना, अतिक्रमण हटाना और मंदिर हटाना सब निर्णय भाजपा की बोर्ड लेती है। एक पार्षद 34 पार्षदों के फैसले को नहीं बदल सकता है।

ये भी पढ़ें: सैमसंग ने लॉन्च किया Galaxy S20 FE 2022, जानिए कीमत और फीचर्स

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *