Rahul Bajaj Passes Away: बजाज मोटर्स (Bajaj Motors) के संस्थापक राहुल बजाज (Rahul Bajaj) का शनिवार को 83 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे और कैंसर से पीड़ित थे। राहुल बजाज भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता जमनालाल बजाज के पोते थे। उन्हें सरकार ने 2001 में पद्म भूषण से सम्मानित किया था।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने ट्वीट करते हुए राहुल बजाज के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने लिखा,  राहुल बजाज  निधन एक बड़ी क्षति है। उन्होंने दो पहिया वाहनों में एक ब्रांड बनाया और राज्यसभा में प्रभावी ढंग से काम किया। दिवंगत आत्मा को मेरी श्रद्धांजलि, ओम शांति,

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश (Jairam Ramesh) ने भी राहुल बजाज के निधन पर शोक जताते हुए लिखा, 40 साल की दोस्ती में राहुल बजाज की मेरे पास कई प्यारी यादें हैं। उन्होंने बजाज ऑटो की सफलता की नींव रखी। वह मनमौजी थे। वह 2002 के सांप्रदायिक दंगों के खिलाफ और 2014 से डर और धमकी के माहौल के खिलाफ बोलने वाले कुछ व्यापारियों में से एक थे।

बता दें कि राहुल बजाज ने 1965 में बजाज  समूह की कमान संभाली थी। उन्होंने कंपनी का नेतृत्व करते हुए बजाज चेतक नाम का स्कूटर बनाया। राहुल बजाज 1972 से ही कंपनी के गैर-कार्यकारी चेयरमैन का कार्यभार देख रहे थे। राहुल बजाज के नेतृत्व में बजाज ऑटो का कारोबार 7.2 करोड़ रुपये से 12,000 करोड़ तक पहुंचा। लेकिन बीते साल राहुल बजाज ने बजाज ऑटो के चेयरमैन का पद छोड़ दिया था। अपनी बढ़ती उम्र को देखते हुए उन्होंने कंपनी के गैर-कार्यकारी चेयरमैन के पद से इस्तीफा दे दिया था। उनके बाद नीरज बजाज को नया चेयरमैन बनाया गया।

राहुल बजाज का जन्म 10 जून 1938 को कोलकाता में हुआ था। उनके पिता कमलनयन बजाज भी बड़े व्यापारी थे और वे इंदिरा गांधी के नजदीकी लोगों में थे। राहुल बजाज ने अपनी पढ़ाई दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से की। इसके बाद उन्होंने मुंबई से कानून की डिग्री भी हासिल की थी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *