पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी नेता ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्ष एकजुट करने के लिए 15 जून यानी आज विपक्ष दलों की एक कॉन्फ्रेंस बुलाई हुई है। ममता बनर्जी की ओर से जारी किए गए एक आमंत्रण पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, सीपीआईएम के नेता सीताराम येचुरी सहित विपक्ष के तमाम बड़े नेताओं और मुख्यमंत्रियों को न्योता दिया गया था।

वहीं अब कुछ पार्टियां इससे किनारा कर रही हैं। CPIM नेता सीताराम येचुरी ने पहले ही ममता के इस कदम को विपक्षी एकता के लिए ठीक नहीं बताया था। अब आम आदमी पार्टी और टीआरएस ने कदम पीछे किये हैं।

आम आदमी पार्टी, तेलंगाना राष्ट्रीय समिति जैसी पार्टियों ने इस मीटिंग में शामिल होने से इनकार कर दिया है। बता दें कि इससे पहले तक जानकारी यह थी कि इन पार्टियों के प्रतिनिधि भी मीटिंग में जाएंगे।

बता दें कि TRS ने कहा है कि वह उस मंच पर खड़ी नहीं होना चाहती जहां पर कांग्रेस पहले से हो। सूत्रों के मुताबिक, आम आदमी पार्टी ने कहा है कि राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित होने के बाद ही AAP इस मुद्दे पर विचार करेगी।

वहीं इस बैठक में सपा के अखिलेश यादव, कांग्रेस से मल्लिकार्जुन खड़गे और जयराम रमेश हिस्सा लेंगे। इसके अलावा झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन, आरएलडी के जयंत चौधरी, सीपीआई के बिनॉय बिस्वास, डीएमके के टीआर बालू, शिवसेना के सुभाष देसाई, एनसी के उमर अब्दुल्ला औैर पीडीपी की नेता महबूबा मुफ्ती भी इस बैठक में आ सकते हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *