Ukraine-Russia War: यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे युद्ध का आज 13वां दिन है। दोनों देशों के बीच तीसरे दौर की बातचीत से भी कोई नतीजा नहीं निकला है। इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की (Volodymyr Zelenskyy) ने वीडियो जारी कर कीव में ही होने का दावा किया है।

यूक्रेन छोड़ने की खबरों के बीच जारी किया वीडियो 
उन्होंने वीडियो जारी कर कहा कि मैं किसी से डरा नहीं हूं। मैं छिप नहीं रहा हूं। उन्होंने आगे इस वीडियो में बताया कि हम युद्ध जीतने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। बता दें कि यूक्रेन के राष्ट्रपति की तरफ से वीडियो जारी कर ये दावा ऐसे समय पर किया गया है जब रूसी मीडिया की तरफ से यह लगातार कहा जा रहा है कि यूक्रेन राष्ट्रपति जेलेंस्की अपना देश छोड़कर भाग चुके हैं।

रूस ने नागरिकों को निकालने के लिए सोमवार सुबह से लगाया संघर्ष-विराम
वहीं इससे पहले, रूस ने नागरिकों को निकालने के लिए सोमवार सुबह से संघर्ष-विराम के साथ कई क्षेत्रों में मानवीय गलियारों को खोलने का ऐलान किया। हालांकि निकासी मार्ग ज्यादातर रूस और उसके सहयोगी देश बेलारूस की ओर जा रहे है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि क्या नागरिकों को निकाला जा रहा है। गलियारों की नई घोषणा के बाद भी रूसी सेना ने कुछ यूक्रेनी शहरों पर रॉकेट हमला जारी रखा और कुछ क्षेत्रों में भयंकर लड़ाई जारी रही।

सुरक्षित गलियारा बनाने के संबंध में मामूली प्रगति हुई
बता दें कि रूस और यूक्रेन के बीच सोमवार को तीसरे दौर की वार्ता हुई। वार्ता समाप्त होने के बाद यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के एक सलाहकार ने कहा कि सुरक्षित गलियारा बनाने के संबंध में मामूली प्रगति हुई है। हालांकि, उन्होंने बैठक का अधिक विवरण साझा नहीं किया।

वहीं रूसी रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि यह संघर्ष-विराम राजधानी कीव, दक्षिणी बंदरगाह शहर मारियुपोल, यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव और सूमी से नागरिकों की निकासी के लिए घोषित किया गया है।

रूसी संवाद समिति ‘आरआईए नोवोस्ती’ द्वारा रक्षा मंत्रालय के हवाले से प्रकाशित निकासी मार्गों से पता चलता है कि यू्क्रेनी नागरिक रूस और बेलारूस जा सकेंगे। कार्यबल ने कहा कि रूसी सेना ड्रोन के जरिये संघर्ष-विराम की निगरानी करेगी।

इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा, ‘‘अगर आक्रमण जारी रहता है और रूस यूक्रेन के खिलाफ अपनी योजनाओं को नहीं छोड़ता है, तो हमें एक नए प्रतिबंध पैकेज की आवश्यकता होगी।’’

इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी का कहना है कि अब तक 17 लाख से अधिक लोग युद्धग्रस्त यूक्रेन को छोड़कर सुरक्षित स्थानों में शरण ले चुके हैं। कई अन्य लोग शहरों में गोलाबारी की चपेट में फंसे हुए हैं। मारियुपोल में खाद्य पदार्थ, पानी और दवाओं की कमी हो गई है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *