Budget Session of Parliament 2022: संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण का आज यानि बुधवार को छठा दिन है। संसद में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने मिड-डे मील का मुद्दा उठाया। लोकसभा में बोलते हुए सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार से मांग की है कि मिड-डे मील के तहत फिर से पका हुआ भोजन बच्चों को मिलना चाहिए।

सोनिया गांधी ने मिड डे मिल का मुद्दा उठाया
सोनिया गांधी ने बजट सत्र के दौरान लोकसभा में कहा कि कोरोना महामारी शुरू होने से लेकर अब तक बच्चों का काफी नुकसान हुआ है। महामारी में स्कूल ही सबसे पहले बंद हुए और फिर सबसे आखिर में खुले। सोनिया ने कहा कि कोरोना काल की वजह से बच्चों को मिलने वाले मिड-डे मील की सुविधा भी रुक गई थी। फिर सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के बाद सूखा राशन दिया जाना शुरू किया गया।

मिड-डे मील के तहत गर्म और पका हुआ भोजन बच्चों को देना फिर से शुरु किया जाए: सोनिया गांधी
सोनिया गांधी ने कहा कि मिलने वाला सूखा राशन पके हुए पौष्टिक भोजन का विकल्प नहीं बन सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे कहा कि मैं केंद्र सरकार से आग्रह करती हूं कि मिड-डे मील के तहत गर्म और पका हुआ भोजन बच्चों को देना फिर से शुरू किया जाए।

सोनिया गांधी ने community kitchen शुरू करने की बात भी रखी
सोनिया ने आगे कहा कि आंगनवाड़ियों की मदद से तीन साल से कम उम्र के बच्चों के लिए और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए भी पके हुए पौष्टिक भोजन की व्यवस्था होनी चाहिए। कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे यह भी दावा किया कि पांच साल से कम आयु के बच्चे जो बेहद कमजोर है उनका प्रतिशत (संख्या) 2015-16 की तुलना में बढ़ गया है। सोनिया गांधी ने community kitchen शुरू करने की भी वकालत की।

आपको बता दें कि संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण का आज छठा दिन है. लोकसभा में नागर विमानन मंत्रालय की अनुदान मांगों पर चर्चा दूसरे दिन भी जारी रही, वहीं राज्यसभा में रेल मंत्रालय के कामकाज पर आगे की चर्चा भी हुई।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *