आज भारत की राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( National Investigation Agency ) ने टेरर फंडिंग मामले को लेकर अपनी चार्जशीट में बड़ा खुलासा किया है। जिसमे NIA ने बताया है कि दाऊद और उसके सहयोगी छोटा शकील एक बार फिर से भारत में आतंक फैलाने की फिराक में लगे हैं जिसके लिए उन्होंने भारत में हवाला के जरिए करोड़ो रूपये भेजें हैं।

हवाला के जरिए भेजे 13 करोड़ रूपये-
मिली रिपोर्ट के मुताबिक NIA ( National Investigation Agency ) ने बताया कि दाऊद ने इसके लिए हवाला के जरिए पाकिस्तान से दुबई के रास्ते पहले सूरत और फिर मुंबई 25 लाख रुपये भेजे हैं। ये रुपये आरिफ शेख और शब्बीर शेख को भेजे गए हैं। इस तरह से दोनों ने पिछले चार साल में हवाला के जरिए 12 से13 करोड़ रुपये भेजे हैं।

बयान में कहा गया है कि जांच के दौरान यह पता चला है कि राशिद मरफानी उर्फ राशिद भाई दुबई में वांछित गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम और छोटा शकील के पैसे को भारत भेजने के लिए हवाला मनी ट्रांसफर का काम स्वीकार करता था। आपको बता दे कि सूरत का एक हवाला ऑपरेटर ने ये गवाही दी है जिसकी पहचान सुरक्षा कारणों से गोपनीय रखा गया है।

डी कंपनी के निशाने पर कई शहर, दंगा कराने के लिए भेजे थे रुपये-
डी-कंपनी के खिलाफ दायर NIA की चार्जशीट के मुताबिक, भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के निशाने पर देश के बड़े राजनेता और कई बड़ी हस्तियां भी उसके निशाने पर हैं। इतना ही नहीं दाऊद ने डी कंपनी भारत के अलग-अलग शहरों में दंगा कराने के लिए मोटी रकम भी भेजी थी। इनमें भारत की राजधानी नई दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुंबई सबसे टॉप लिस्ट में थे।

दाऊद, शकील के अलावा और भी नाम है चार्जशीट में-
आपको बता दे कि चार्जशीट में दाऊद, शकील, उसके साले सलीम फ्रूट, आरिफ शेख और शब्बीर शेख को नामजद किया गया है। अंतिम तीन को गिरफ्तार कर लिया गया है। एनआईए ने अपने आरोपपत्र में बताया कि कैसे 25 लाख रुपये पाकिस्तान से आतंकवादी गतिविधियों के लिए भारत भेजे गए। एनआईए ने दावा किया कि शब्बीर ने 5 लाख रुपये रखे थे और बाकी आरिफ को एक गवाह के सामने दिए थे। एनआईए ने कहा कि यह ध्यान रखना उचित है कि 9 मई, 2022 को उनके घर की तलाशी के दौरान शब्बीर से 5 लाख रुपये बरामद किए गए थे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *