काठमांडू घाटी के ललितपुर मेट्रोपॉलिटन सिटी (LMC) में पानीपुरी बेचने पर पर प्रतिबंध लगा दिया गया है क्योंकि घाटी में हैजा (cholera) के मामले बढ़ गए हैं। यहां अब तक हैजा के 12 केस सामने आए हैं।

शहर में पानीपुरी बेचने और डिस्ट्रीब्यूशन पर रोक लगाने का लिया फैसला
बता दें कि शनिवार को शहर में पानीपुरी बेचने और डिस्ट्रीब्यूशन पर रोक लगाने का फैसला किया है। शहर के प्रशासन की ओर से यह दावा किया गया कि पानीपुरी में इस्तेमाल किए गए पानी में हैजा के बैक्टीरिया पाए गए थे। नगर पुलिस प्रमुख सीताराम हचेथु के अनुसार, शहर में भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों और कॉरिडोर क्षेत्र में पानीपुरी बेचने पर रोक के लिए आंतरिक तैयारी की गई है, जिसमें कहा गया है कि घाटी में हैजा फैलने का खतरा बढ़ गया है।

घाटी में सात और नए मरीज आए हैं सामने
स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के अनुसार, काठमांडू घाटी में सात और लोगों के हैजा संक्रमित होने के साथ अब तक हैजा के रोगियों की कुल संख्या 12 तक पहुंच गई है। महामारी विज्ञान और रोग नियंत्रण प्रभाग के निदेशक चुमानलाल दास के अनुसार, काठमांडू महानगर में हैजा के पांच मामलों की पहचान की गई है और चंद्रगिरी नगर पालिका और बुधनिलकांठा नगर पालिका में एक-एक मामले की पहचान की गई है।

सुकरराज ट्रॉपिकल एंड इंफेक्शियस डिजीज हॉस्पिटल में चल रहा इलाज
संक्रमितों का इलाज टेकू स्थित सुकरराज ट्रॉपिकल एंड इंफेक्शियस डिजीज हॉस्पिटल में चल रहा है। इससे पहले राजधानी के अलग-अलग हिस्सों में हैजा के पांच मामले मिले थे। संक्रमितों में से दो को पहले ही इलाज और छुट्टी दे दी गई है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *