जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में सुरक्षाबलों ( Indian Army ) ने रविवार तड़के मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया। इनमे एक पाकिस्तानी आतंकी भी शामिल है। दोनों आतंकी लश्कर-ए-तायबा (एलईटी) के बताये जा रहे हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिले के चेयन देवसर इलाके में मुठभेड़ तब शुरू हुई जब सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों की मौजूदगी का पता लगाने के लिए घेराबंदी कर क्षेत्र में तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर भारी फायरिंग कर दी। जवाबी कार्रवाई में दोनों आतंकी मारे गए।

ये भी पढ़ें: सेना ने हाइड्रा वाहन के बीचों बीच फंसे बाइक सवार की बचाई जान, ब्रेक फेल होने से हुआ हादसा

इससे पहले शनिवार सुबह आतंकियों ने हमला कर एक पुलिसकर्मी की कर दी थी हत्या-
आपको बता दें इससे पहले शनिवार सुबह आतंकियों ने हमला कर दिया था जिसमे एक पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। खबर के मुताबिक़ आतंकी हमले में गोली लगने से पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए थे। जिसके बाद घायल पुलिसकर्मी को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहा पर इलाज के दौरान देर शाम अस्पताल में घायल पुलिसकर्मी ने दम तोड़ दिया।

ये भी पढ़ें: 2022 के टॉप मार्शल आर्टिस्ट में शामिल हुए विद्युत जामवाल, लगातार दो सालों से कायम है दबदबा

आतंकियों ने प्लानिंग कर मारी थी कांस्टेबल गुलाम हसन को गोली-
आपको बता दें कांस्टेबल गुलाम हसन पुलिस नियंत्रण कक्ष हेल्पलाइन 112 में ड्राइवर के रूप में तैनात थे। पुलिस ने बताया कि घटना सुबह 8.50 बजे की है। बाइक से जा रहे कांस्टेबल गुलाम हसन को आतंकियों ने सफाकदल इलाके में आइवा पुल के पास निशाना बनाकर गोली मारी। वो गंभीर रूप से घायल हो गए। गोली लगते ही वह बाइक से गिर पड़े। इसके बाद आतंकी मौके से भाग निकले। खून से लथपथ पुलिसकर्मी को तत्काल शेर-ए-कश्मीर चिकित्सा विज्ञान संस्थान (स्किम्स) पहुंचाया गया, जहां इलाज के दौरान उन्होंने देर शाम दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद सुरक्षाबलों ने आतंकियों की खोज के लिए आसपास के इलाकों में तलाशी अभियान चलाया, लेकिन आतंकियों का कोई सुराग नहीं लगा।

ये भी पढ़ें: अमेरिका ने लगाई ‘Johnson & Johnson’ के कोविड टीके पर पाबंदियां, खून के थक्के जमने का बढ़ा गंभीर खतरा

कई आतंकी अपराधों में शामिल था आतंकी हैदर-
पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) विजय कुमार ने बताया कि मारे गए एक आतंकी की पहचान पाकिस्तानी आतंकी हैदर के तौर पर हुई है। वह उत्तरी कश्मीर में दो साल से अधिक समय से सक्रिय और कई आतंकी अपराधों में शामिल था।

ये भी पढ़ें: Char Dham Yatra 2022: चारधाम यात्रा आज से शुरू, गंगोत्री-यमुनोत्री के खुलेंगे कपाट, जानें कोविड रिपोर्ट कितनी ज़रूरी

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *