Indian Railways: इंडियन रेलवे ने यात्रियों (Railways Passanger) को खाने की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए और यात्रियों के इस अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए फास्ट फूड आउटलेट, फूड प्लाजा और रेस्टोरेंट खोलने का बड़ा फैसला लिया है। जिसके कारण यात्रियों का सफर अब खाने के स्वाद से भी भरपूर होगा और अपना मन चाहा खाना खा सकेंगे।

एक रिपोर्ट के मुताबिक़ रेलवे बोर्ड (Railway Board) नें एक आदेश जारी करते हुए कहा हैं कि, रेलवे राजस्व बढ़ाने के लिए अब अपनी खानपान इकाई आईआरसीटीसी (IRCTC) से अलग अपने फास्ट फूड आउटलेट, फूड प्लाजा और रेस्टोरेंट खोलेगा।

रेलवे के राजस्व को हो रहा हैं भारी नुकसान

आदेश में कहा गया है कि आईआरसीटीसी को आवंटित किए गए कई स्थान खाली रह गए हैं, जिसके कारण यात्रियों को समुचित सेवाएं नहीं मिल पा रही हैं और रेलवे को भारी राजस्व का नुकसान हो रहा है, इस वज़ह से जोनल रेलवे द्वारा रेलवे स्टेशनों पर उपलब्ध खाली स्थान पर फास्ट फूड इकाई / फूड प्लाजा / रेस्टोरेंट खोलने के लिए अनुमति मांगी गई है।

100 से 150 आउटलेट लगा सकता हैं जोनल रेलवे

कुछ अधिकारियों के मुताबिक, आईआरसीटीसी रेल भूमि की अत्यधिक दर, अधिक लाइसेंस शुल्क और ऐसी इकाइयों की स्थापना के लिए गलत स्थान के विकल्प के चलते इन फूड कोर्ट की स्थापना नहीं कर सकी थी। और अब सूत्र बताते हैं कि ऐसे 100-150 आउटलेट स्थापित करने की योजना जोनल रेलवे द्वारा बनाई जा रहीं हैं।

जोनल रेलवे की होगी जिम्मेदारी

रेलगाड़ियों और स्टेशनों पर खानपान की सुविधा देने के लिए इंडियन रेलवे टूरिज्म एंड कैटरिंग कॉरपोरेशन (IRCTC) को जिम्मेदारी दी गई है। और आईआरसीटीसी इन इकाइयों की स्थापना करने में काफ़ी हद तक विफल रही हैं, जिसके चलते भारतीय रेलवे (Indian Railways) को राजस्व में भारी नुकसान उठाना पड़ा हैं। और इसी के चलते अब यह जिम्मेदारी जोनल रेलवे को सौंपने का फैसला लिया गया है।

रेलवे की खाली जगह को इस्तेमाल करने की दी इजाजत

एक खबर के मुताबिक़ इस संबंध में आठ मार्च को जारी एक आदेश में कहा गया हैं कि, 17 जोनल रेलवे को इन फूड इकाइयों के लिए स्टेशनों पर खाली जगह का इस्तेमाल करने की इजाजत दी गई है। और जोनल रेलवे ने इस पर काम करना शुरू भी कर दिया हैं।

 

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *