In New Tehri, teacher misbehaved with female journalist Bharti Saklani

Teacher Misbehaved With Female Journalist: ‘शिक्षक’ वो शब्द है, जिसे सुनते ही हमारे दिल में उनके लिए सम्मान खुद-ब-खुद आ जाता है। शिक्षक से हम ज्ञान के साथ-साथ जीने का सलीका भी सीखते हैं, लेकिन समाज में कुछ शिक्षक ऐसे भी हैं, जो न सम्मान पाने के काबिल है और न समाज में रहने के काबिल है। जी हां, उत्तराखंड के नई टिहरी से एक मामला सामने आया है, जहां एक शिक्षक ने महिला पत्रकार के साथ अभद्रता करने की कोशिश की, जिसका खामियाजा उसे थाने जाकर भुगतना पड़ा। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला?

ये भी पढ़ें: एलन मस्क ने CEO पराग अग्रवाल और पॉलिसी चीफ को दिखाया बाहर का रास्ता

महिला पत्रकार से अभद्रता करना शिक्षक को पड़ा भारी
दरअसल, पूर्व शिक्षक बिजेंद्र चंद रमोला ने महिला पत्रकार भारती सकलानी (Bharti Saklani) से अभद्रता करने की कोशिश की। एक निजी कार्य के चलते पूर्व शिक्षक ने कानून को अपने हाथ में लेते हुए अपने पड़ोसी की निजी संपत्ति को छतिग्रस्त किया। मामले की सूचना मिलते ही पत्रकार भारती मौके पर पहुंची, तो उन्होंने रमोला से बातचीत की, जिसके बाद तिलमिलाते हुए बिजेंद्र रमोला ने पत्रकार भारती के साथ अभद्र व्यवहार किया। जिसके बाद भारती ने तत्काल रूप से निकट थाने में जाकर शिकायत दर्ज की।

शिक्षक ने थाने में लिखित रूप से मांगी माफी
शिकायत होने पर पुलिस प्रशासन घटनास्थल पर पहुंची और दोनों पक्षों को सुनने के बाद बिजेंद्र चांद रमोला को थाने में ले जाया गया, जहां बिजेंद्र चंद रमोला को पत्रकार भारती सकलानी से माफी मांगनी पड़ी, साथ ही लिखित और मौखिक रूप से माफ़ीनामा पत्र लिखवाया गया। पत्रकार भारती सकलानी को न्याय दिलवाने में स्थानीय पुलिस में पूरा सहयोग किया।

आपको बता दें कि हमारे कानून में देश का चौथा स्तम्भ कहे जाने वाले प्रेस और समाचार में काम कर रहे पत्रकार के साथ अभद्रता और बदसलूकी करने वालों पर 50 हज़ार का जुर्माना और 3 साल की सज़ा हो सकती है। इसके अलावा पत्रकार को धमकाने वालों को 24 घंटे के अंदर जेल भेजने का हमारे संविधान में प्रावधान है।

ये भी पढ़ें:  उमा भारती के शराबबंदी वाले बयान पर कांग्रेस का तंज, कहा- ‘आपके बदलते बयानों पर अब किसी को भरोसा नहीं’

Spread the love
3 thoughts on “शिक्षक ने पत्रकार से की अभद्रता तो महिला पत्रकार ने थाने में ले जाकर मंगवाई माफी”
  1. गुरुर ब्रह्मा – गुरु ब्रह्मा सृष्टिकर्ता के समान हैं.
    गुरुर विष्णु – गुरु विष्णु संरक्षक के समान हैं.
    गुरुर देवो महेश्वरा – गुरु प्रभु महेश्वर विनाशक के समान हैं.
    गुरु साक्षात – सच्चा गुरु आँखों के समक्ष.
    परब्रह्म – सर्वोच्च ब्रहम.
    तस्मै – उन एकमात्र को.
    गुरवे नमः – उन एक मात्र सच्चे गुरु को मैं नमन करता हूँ. (अब आप बताए ऐसे गुरु ही महिलाओ के साथ अभद्र व्यवहार कर रहे हैं। प्रशासन को इस घटना के विरुद्ध कड़े से कड़े कदम उठाने चाहिए)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *