IIT Madras successfully tested 5G calls: भारत ने आज एक और उपलब्धि हासिल कर ली है, जीं, है भारत ने आज 5G कॉल का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया। केंद्रीय सूचना प्रोद्योगिकी और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव (Ashwini Vaishnaw) ने इसके बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि IIT मद्रास में 5G का सफलतापूर्व परीक्षण किया गया है। इसमें पूरा नेटवर्क भारत में ही डिजायन किया गया है और विकसित किया गया है। इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने 5G नेटवर्क पर वीडियो कॉल भी की।

अश्विनी वैष्णव वीडियो शेयर कर दी जानकारी
वैष्णव ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी देते हुए एक वीडियो भी पोस्ट किया है जिसमें वह 5G का परीक्षण करने वाली टीम के साथ नजर आ रहे हैं। वैष्णव सहित पूरी टीम इस मौके पर बेहद खुश नजर आ रही है।

हमें IIT मद्रास टीम पर गर्व है: अश्विनी वैष्णव
केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, हमें IIT मद्रास टीम पर गर्व है जिसने 5G टेस्ट पैड विकसित किया है जो संपूर्ण 5G विकास इकोसिस्टम और हाइपरलूप पहल को बड़े अवसर प्रदान करेगा। रेल मंत्रालय हाइपरलूप पहल का पूरा समर्थन करेगा।

कुल 8 इंस्टीट्यूट ने मिलकर किया डेवलप
आपको बता दें कि 5G टेस्ट बेड को टोटल 8 इंस्टीट्यूट ने मिलकर डेवलप किया है। इसे IIT मद्रास के नेतृत्व में डेवलप किया गया है। इस प्रोजेक्ट में IIT दिल्ली, IIT हैदराबाद, IIT बाम्बे, IIT कानपुर, IISc बैंगलोर, सोसाइटी फॉर एप्लाइड माइक्रोवेव इलेक्ट्रानिक्स इंजीनियरिंग एंड रिसर्च (SAMEER) और सेंटर आफ एक्सीलेंस इन वायरलेस टेक्नोलाजी (CEWiT) शामिल हैं।

प्रोजेक्ट को डेवलप करने में आई है 220 करोड़ रुपये की लागत
हाल ही में सरकार की ओर से ये जानकारी दी गई थी कि इस प्रोजेक्ट को डेवलप करने में 220 करोड़ रुपये से ज्यादा की लागत आई है। ये टेस्टबेड इंडियन इंडस्ट्री और स्टार्टअप के लिए सपोर्टिव इकोसिस्टम को एनेबल करेगा। टेलीकॉम मंत्रालय की ओर से जानकारी दी गई थी कि इस साल के अंत तक 5G टेक्नोलॉजी को तैयार कर लिया जाएगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *