जहां एक ओर कोविड (COVID-19) की तीसरी लहर लगभग समाप्त होने की ओर है और तेजी से घट रहे कोरोना संक्रमण के मामलों को देखखर अब लोगों में भी राहत है। वहीं दूसरी ओर वैज्ञानिकों का मानना है कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है।

दरअसल, IIT कानपुर के वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी दी है कि कोरोना की चौथी लहर, जून के मध्य या आखिर तक आ सकती है। बता दें कि ये चेतावनी IIT कानपुर के वैज्ञानिकों ने एक शोध के बाद दी है। ये भी पढ़ें: Amul Milk Price : गरीबों पर महंगाई की एक और मार, अमूल ने बढ़ाई दूध की कीमत

आजतक के मुताबिक,  शोध में एक सांख्यिकीय मॉडल का इस्तेमाल किया गया और उसके नतीजों से पता चलता है कि अगली लहर लगभग चार महीने तक रहेगी। इस शोध के मुताबिक, जो आंकड़े निकलकर सामने आए हैं, उनसे पता चलता है कि भारत में कोविड-19 की चौथी लहर, शुरुआती आंकड़ों की उपलब्ध तारीख (30 जनवरी, 2020) से 936 दिनों के बाद आएगी। ये भी पढ़ें: Ukrain-Russia War News: रूस ने यूक्रेन संकट पर भारतीय मीडिया से की अपील, कहा- भारतीय नागरिकों तक पहुंचाए सही जानकारी

शोध के मुताबिक, भारत में कोविड की चौथी लहर 22 जून के आसपास शुरू हो सकती है और अगस्त के मध्य या अंत तक चरम पर पहुंच सकती है। हालांकि, भारत में इस लहर की गंभीरता वायरस के वैरिएंट की प्रकृति और कोविड वैक्सीनेशन की स्थिति पर निर्भर करेगी।

गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने हाल ही में चेतावनी दी थी कि हो सकता है कि ओमिक्रॉन आखिरी कोविड वैरिएंट न हो और अगला वैरिएंट और भी संक्रामक हो सकता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *