केंद्र सरकार और राज्य सरकारें स्वास्थ्य सेवाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए तमाम वायदे करती हो लेकिन जमीनी स्तर पर ये वायदे खोखले दिखाई देते हैं। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा एक वीडियो सभी स्वास्थ्य सेवाओं की हकीकत बयां कर रही है। इस वीडियों में एबुलेंस न मिलने के कारण एक पिता को अपनी मासूम बेटी का शव 10 किलोमीटर तक कंधे पर लेकर चलना पड़ा।

पिता अपनी बेटी के शव को कंधे पर लादकर 10 km तक चला
सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा वीडियो छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले का है।  ये मामला जिले के लखनपुर गांव के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है। दरअसल, शुक्रवार सुबह सात साल की बच्ची की मौत हो गई, जिसके बाद उसके पिता एम्बुलेंस पहुंचने से पहले ही बेटी के शव को कंधे पर लादकर घर चले गए। इसी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।  दरअसल, इस वीडियो में एक पिता अपनी बेटी का शव कंधे पर ले जाते हुए दिख रहे हैं। अस्पताल से घर तक की दूरी करीब 10 किलोमीटर थी।

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने वीडियो की जांच के दिए आदेश
वहीं वीडियो वायरल होने के बाद अब छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने इस वीडियो के जांच के आदेश दिए है सिंहदेव ने अंबिकापुर में कहा, ‘मैंने वीडियो को देखा है। ये विचलित करने वाला है। एक व्यक्ति बच्ची के शव को कंधे पर ले जा रहा है। इस मामले का संज्ञान लिया गया है और सीएमएचओ को इसकी जांच करने का निर्देश दिया गया है।’ सिंहदेव ने आगे कहा, ‘ड्यूटी पर मौजूद स्वास्थ्यकर्मियों को परिवार को गाड़ी का इंतजार करने के लिए समझाना चाहिए था। उन्हें ये सुनिश्चित करना चाहिए था कि ऐसी घटना न हो।’

एंबुलेंस पहुंचने से पहले बेटी का शव लेकर निकल गया पिता
अधिकारियों की मानें तो बीते शुक्रवार को लखनपुर गांव स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सुबह एक बच्ची की मौत हो गई और एंबुलेंस से वहां तक पहुंचने से पहले बच्ची के पिता उसका शव ले गए। उन्होंने बताया कि जिस बच्ची की मौत हुई उसका नाम सुरेखा था। वह अमदला गांव के रहने वाली है। सुबह उसके पिता ईश्वर दास अपनी बीमार बेटी को लेकर लखनपुर सीएचसी लाए थे।

ऑक्सीजन लेवल कम होने से हुई बच्ची की मौत
अधिकारियों ने कहा कि बच्ची का ऑक्सीजन लेवल करीब 60 था। परिवार के मुताबिक बच्ची को पिछले कुछ दिनों से बुखार था। हेल्थ सेंटर में मौजूद रहे ग्रामीण चिकित्सा सहायक (RMA) डॉ विनोद भार्गव ने बताया कि बच्ची का इलाज शुरू किया गया था, लेकिन उसकी हालत पहले से ही काफी खराब थी और धीरे धीरे बिगड़ती चली गई। वहीं इलाज के दौरान सुबह करीब साढ़े सात बजे उसकी मौत हो गई।

उन्होंने बताया कि बच्ची की मौत के बाद उसके परिवार वालों ने कहा कि जल्द ही उसकी घोड़ागाड़ी आ जाएगी। वहीं दूसरी तरफ यह वीडियो सोशल मीडियो पर जमकर वायरल हो रहा है। एक तरफ जहां लोग प्रशासन की लापरवाही के कारण नाराज हैं। वहीं कई लोग इस घटना पर दुख जता रहे हैं।

ये भी पढ़ें:  RRR Box Office Collection Day 1: दुनियाभर में छाया Jr NTR और Ram Charan की जोड़ी का जादू, RRR का पहले दिन बंपर कमाई से खुला खाता

Jio के इस प्लान से Free में देख पाएंगे IPL 2022, आज ही ट्राई करें सबसे सस्ता रिचार्ज प्लान

Anil Ambani ने लिया बड़ा फैसला, R-इंफ्रा और रिलायंस पावर के निदेशक पद से इस्तीफा दिया

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *