Owaisi On PFI Ban: केंद्र सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर बड़ा एक्शन लेते हुए 5 साल के लिए बैन कर दिया है। PFI के साथ उसके अन्य 8 सहयोगी संगठनों को भी बैन कर दिया है। केंद्र सरकार द्वारा की गई कार्रवाई पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की बड़ी प्रतिक्रिया सामने आई है।

इस तरह का बैन खतरनाक है: ओवैसी
उन्होंने कहा कि, ‘अपराध करने वाले कुछ लोगों के गलत काम का ये मतलब नहीं कि संगठन को ही बैन कर दिया जाए।’ ओवैसी ने आगे कहा, इस तरह का बैन खतरनाक है। ये हर उस मुसलमान पर बैन है जो अपने मन की बात कहना चाहता है।

अब हर मुस्लिम युवा को PFI पैम्फलेट के साथ गिरफ्तार किया जाएगा: ओवैसी
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि, भारत के काले कानून, यूएपीए के तहत अब हर मुस्लिम युवा को PFI पैम्फलेट के साथ गिरफ्तार किया जाएगा। मैंने यूएपीए का विरोध किया है और यूएपीए के तहत सभी कार्यों का हमेशा विरोध करूंगा। ओवैसी बोले, ये बैन स्वतंत्रता के सिद्धांत का उल्लंघन करता है जो संविधान के बुनियादी ढांचे का हिस्सा है।

दक्षिणपंथी बहुसंख्यक संगठनों पर बैन क्यों नहीं- ओवैसी
ओवैसी ने सवाल करते हुए कहा, पीएफआई पर बैन लगाया गया लेकिन खाजा अजमेरी बम धमाकों के दोषियों से जुड़े संगठन नहीं बैन हुए। ऐसा क्यों? सरकार ने दक्षिणपंथी बहुसंख्यक संगठनों पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगाया?

आपको बता दें, इससे पहले आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने पीएफआई बैन पर कहा कि ऐसे संगठनों पर बैन लगना चाहिए। हालांकि, उन्होंने ये भी कह दिया कि इसी के साथ आरएसएस पर बैन लगना चाहिए। ये लोग मुस्लिम संगठनों को निशाना बना रहे हैं और हर बात में हिंदु-मुस्लिम करते हैं।

Spread the love