देश का आधा हिस्सा इस समय बिजली संकट से जूझ रहा है। झारखंड हो या बिहार, हरियाणा हो या यूपी, अधिकतर राज्यों में बिजली कटौती के कारण लोगों का गर्मी से बुरा हाल है। बात करें यूपी कि तो यहां भी लोगों को बिजली कटौती से कोई राहत नहीं है। बिजली संकट को मुद्दा बनाते हुए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्षी समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने सूबे की सरकार पर जमकर हमला बोला है।

ये भी पढ़ें: शिवपाल यादव को आई आज़म खान की याद, पुराना वीडियो शेयर कर कहा- ‘मैं आपके साथ था, हूं और रहूंगा’

इंतजाम किया होता, तो बिजली संकट से जूझना नहीं पड़ता: अखिलेश यादव
यूपी चुनाव के बाद एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में अखिलेश यादव ने बिजली संकट (Power Cut Crisis) पर चंदौली की घटना को लेकर सरकार को घेरा है। अखिलेश यादव ने बिजली संकट को लेकर यूपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सरकार लगातार दूसरी बार सत्ता में आई है। ये कॉन्टिन्यूटी की सरकार है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने अगर इंतजाम किया होता तो शायद आज संकट से जूझना नहीं पड़ता। इसी दौरान अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (UP CM Yogi Adityanath) को भी निशाने पर लिया।

ये भी पढ़ें: Char Dham Yatra 2022: चारधाम यात्रा आज से शुरू, गंगोत्री-यमुनोत्री के खुलेंगे कपाट, जानें कोविड रिपोर्ट कितनी ज़रूरी

रिफॉर्म का मतलब ये नहीं कि सब बेच दें: अखिलेश
उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि वे रिफॉर्म कर रहे हैं, इसका मतलब ये नहीं है कि सब बेच दें। अखिलेश ने कहा कि सरकार की जिम्मेदारी है कि अपना चुनावी वादा याद करें। किसान को फ्री बिजली क्यों नहीं दे पा रहें।

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्रः राज ठाकरे की रैली से पहले सीएम उद्धव ने साधा निशाना, कहा- ‘कुछ लोग झंडा बदलते रहते हैं ‘

चंदौली की घटना को लेकर सीएम योगी पर किया हमला
इसके अलावा उन्होंने चंदौली की घटना को लेकर भी सरकार को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि चंदौली की घटना, योगी सरकार में हुई कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी गोरखपुर, हाथरस में ये सब हो चुका है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि चंदौली में जो हुआ है, जाति के आधार पर भेदभाव हो रहा है। उन्होंने ये मांग भी की है कि यह गिनती होनी चाहिए कि कौन लोग हैं जो अन्याय कर रहे हैं।

साभार-आज तक

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *