ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने हमले के बाद कहा है कि मैंने अपना राजनीतिक करियर 1994 से शुरू किया है, अब तक मैंने किसी तरह की कोई सुरक्षा नहीं ली है, मुझे ये पसंद नहीं है। मेरी जान की सुरक्षा करना सरकार की जिम्मेदारी है।

उन्होंने आगे कहा कि मैं भविष्य में भी कभी सुरक्षा नहीं लूंगा। जब मेरा वक्त आएगा तब चला जाऊंगा। ओवैसी ने कहा कि चुनाव आयोग से मैं कहना चाहूंगा कि इस मामले के पीछे ज़रूर कोई मास्टरमाइंड है। कुछ दिन पहले प्रयागराज में धर्म संसद में मेरी जान लेने की बात कही गई थी, जो ऑन रिकार्ड है, उसे भी देखा जाना चाहिए।

ओवैसी ने आजतक को बताया कि लाल और सफेद कलर के जैकेट में दो हमलावर थे। लाल कलर के जैकेट पहने हमलावर के पैर पर गाड़ी का टायर चढ़ा तो सफेद जैकेट पहने हमलावर ने दोनों फॉर्च्यूनर पर दोबारा फायरिंग की। उन्होंने कहा कि मेरे पास हैदराबाद में लाइसेंसी पिस्टल है। हमलावरों ने जिस पिस्टल से फायरिंग की उसकी आवाज़ सुनकर मैं यकीन से बता सकता हूं कि हमलावरों के पास जो हथियार मौजूद थे वो कंट्रीमेड नहीं बल्कि 9mm पिस्टल या कुछ और था। इस तरह के लोगों (हमलावरों) को भारत में खुली छूट मिली हुई है, ये गंभीर मामला है।

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि इस मामले की जांच के लिए 5 टीमें गठित की गई हैं। उन्होंने कहा कि आईजी मेरठ खुद इस मामले की जांच कर रहे हैं। वहीं इस मामले में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया तो दूसरे ने गाजियाबाद थाने में खुद सरेंडर कर दिया।

गौरतलब है कि बृहस्पतिवार शाम को असदुद्दीन ओवैसी ने दावा किया कि मेरठ से लौटते वक्त उनकी गाड़ी पर 4 राउंड फायरिंग की गई है। आज तक के साथ खास बातचीत में ओवैसी ने कहा कि उन पर मेरठ से लौटते वक्त फायरिंग की गई। इन लोगों पर ठोस कार्रवाई होनी चाहिए इन्होंने मेरी जान लेने की कोशिश की है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *