देश में एक बॉडी स्प्रे का विज्ञापन को लेकर विवाद छिड़ गया है लोग इस आपत्तिजनक विज्ञापन पर भड़के हुए हैं और इसको बंद करने की मांग भी की थी। आपको बता दें अब इस विज्ञापन को सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने बैन करने का आदेश दिया है। ( Layer’r Shot body spray ads ban ) साथ ही ट्विटर, यूट्यूब और बाकी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से विज्ञापन हटाने को कहा है। सरकार ने मामले की जांच के लिए एक कमेटी भी बनाई है। ये विज्ञापन लेयर’आर ( Layer’r )  कंपनी के बॉडी स्प्रे का हैं। कंपनी के दो विज्ञापनों पर लोग काफी भड़के हुए थे। लोगों ने भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (ASCI) को सोशल मीडिया पर टैग करके विज्ञापन को बंद करने की मांग की थी।

सोशल मीडिया पर जमकर भड़के लोग-
विज्ञापनों को लेकर कई यूजर्स ने सोशल मीडिया पर ASCI को टैग करके कहा था कि इस तरह के विज्ञापन को बंद किया जाए। इन विज्ञापनों को देखने के बाद सोशल मीडिया पर लोग भड़के हुए हैं। उनका कहना है कि इस तरह के विज्ञापन रेप कल्चर को बढ़ावा दे रहे हैं। इसके​​​​​​ जवाब में ASCI ने लिखा था कि हमें टैग करने के लिए धन्यवाद। यह विज्ञापन नियमों का उल्लंघन है। हमने इस पर तत्काल कार्रवाई की है। कंपनी से विज्ञापन को हटाने के लिए कहा है और आगे की जांच की जा रही है।

कंपनी के दो विज्ञापनों में यह कंटेंट
पहले विज्ञापन में एक स्टोर पर चार लड़के बातचीत कर रहे हैं। चारों लड़के परफ्यूम की आखिरी बची हुई बोतल देखते हैं, और आपस में चर्चा करते हुए बोलते हैं कि हम चार हैं और “शॉट” सिर्फ एक है तो इसे कौन लेगा। लेकिन इस बातचीत के दौरान विज्ञापन में बॉडी स्प्रे की जगह एक लड़की को दिखाया गया है। लड़की पीछे मुड़ती है, और चारों लड़कों पर गुस्सा करती है, क्योंकि उसे लगता है कि वे उसी के बारे में बात कर रहे हैं।

कंपनी घटिया क्रिएटिविटी से समाज में पैदा कर रही है घटिया सोच
दूसरा विज्ञापन बेडरूम में एक कपल के साथ शुरू होता है। अचानक से लड़के के चार दोस्त कमरे में घुसते हैं और बेहद ही भद्दा सवाल पूछते हुए बोलते हैं कि लगता है शॉट मारा। अब हमारी बारी। मगर इसी विज्ञापन को पूरा देखने पर मालूम पड़ता है कि दोस्त सिर्फ पूछ रहे थे कि क्या वे कमरे में रखे शॉट परफ्यूम का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन जैसे ही इसे लोगों ने देखे तो बवाल मचना शुरू हो गया।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने भी ऐड पर कराई थी आपत्ति दर्ज-
दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ( Swati Maliwal ) ऐड पर आपत्ति दर्ज कराई थी। स्वाति ने कहा कि ‘‘परफ्यूम का ऐड बना रहे हैं या गैंगरेप मानसिकता को बढ़ावा दे रहे हैं? किस स्तर के घटियापन को क्रिएटिविटी की आड़ में छुपाकर बेच रहे हैं। मैं पुलिस और I&B मंत्रालय को लिख रही हूं। ऐसे वाहयात ऐड TV पे चलने से पहले कोई चेक नहीं होता?

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *