राजस्थान के करौली में हुई सांप्रदायिक हिंसा (communal violence in Karauli) में पुलिस ने 33 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है साथ ही पुलिस पूछताछ कर रही है। करौली में कैंप कर रहे आईजी पीके खमेसरा ने कहा कि जांच जारी है। यह सही है कि छतों से पत्थर फेंके जाने के बाद भगदड़ मची और दुकानों में आगजनी हुई है। करौली में कर्फ्यू लगा दिया गया है और सोमवार रात तक के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया है।

वहीं प्रशासन ने दोनों पक्षों के साथ मिलकर शांति की अपील की है। मिली जानकारी के मुताबिक आज शाम फिर बैठक की जाएगी। इस घटना में घायल हुए 43 लोगों में से गंभीर रूप से घायल एक व्यक्ति का इलाज जयपुर में किया जा रहा है जबकि 27 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी मिल गई है। पुलिस के मुताबिक उनके पास वीडियो आए हैं जिनकी जांच की जा रही है।

पुलिस ने बताया कैसे हुई हिंसा की शुरुआत?
करौली पुलिस के अनुसार नव संवत्सर को मनाने के लिए बाइक रैली मुस्लिम बहुल इलाके से गुजर रही थी तभी कुछ लोगों ने पथराव कर दिया। देखते ही देखते हिंसा बढ़ गई। उपद्रवियों ने कुछ दुकानें और एक बाइक में आग लगा दी। इसके साथ ही कई अन्य वाहन भी तोड़ दिए।

कुछ असामाजिक तत्वों ने सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की: रमेश मीणा
करौली से आने वाले ग्रामीण विकास मंत्री रमेश मीणा ने कहा कि कुछ असामाजिक तत्वों ने सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की है, लेकिन हालात सुधर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन की भी गलती है कि आखिर संवेदनशील इलाके में शोभायात्रा निकालने की इजाजत क्यों दी गई। अगर इजाजत दी भी गई तो पर्याप्त संख्या में पुलिस बल क्यों तैनात नहीं था।मंत्री ने इस घटना के लिए पुलिस पर लापरवाही का आरोप भी लगाया है।

अपराधी किसी भी समुदाय का हो सज़ा दी जाएगी: अशोक गहलोत
वहीं दूसरी तरफ रैली पर पथराव के बाद भड़की हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि अपराधी चाहे किसी समुदाय का हो छोड़ा नहीं जाएगा। गहलोत ने कहा है कि उन्होंने इस मामले में तुरंत डीजीपी और पुलिस प्रशासन से बातचीत की है। इस मामले में जो भी लोग दोषी है उनके खिलाफ पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी।

सीएम अशोक गहलोत ने करौली की जनता से शांति की अपील की
उन्होंने आग कहा कि राजस्थान में हमेशा से यह परंपरा रही है या हिंदू,मुस्लिम, सिख, और इसाई आपस में मिल जुल कर रहते हैं। पुलिस तो अपना काम कर ही रही है लेकिन वहां के समाज के बड़े बुजुर्गों को भी शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए आगे आना चाहिए।गहलोत ने कहा कि कुछ लोग पूरे समाज को बदनाम करते हैं। साथ ही माहौल को खराब करते हैं। मैंने ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दे दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने करौली की जनता से शांति बनाए रखने की अपील की।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *